इस तरह के उपकरण से टिकट जांच करने वाले कर्मचारी को भी सहूलियत होगी. उनके टर्मिनल उपकरण पर उपलब्ध सीटों का विवरण होगा और आरक्षण चार्ट भी नहीं देखना पड़ेगा. इसके उपयोग से टीटीई के कार्य में पारदर्शिता आएगी और ट्रेन के संचालन के दौरान खाली बर्थ का उपयोग भी रेल रिकॉर्ड के साथ होगा. इस एचएचटी के द्वारा अब टिकिट निरीक्षक चार्ट के स्थान पर इसमें यात्री का विवरण देख सकेंगे, जिससे कागज की बचत के साथ ही मैन पावर की भी बचत होगी.

DrxHina Firdous | Lybrate.com

निम्नलिखित में से कौन सा शब्द एमएस एक्सेल में लीजेंड से संबंधित है?

  • लीजेंड एक्सेल में चार्ट के प्लॉट किए गए क्षेत्र पर स्थित स्थान है। इसमें लीजेंड कुंजीयां होती हैं जो डाटा स्रोत से जुड़ी होती हैं। जब हम एक्सेल में कोई चार्ट डालते हैं तो लीजेंड अपने आप दिखाई देगा।
  • लीजेंड ग्राफ़ पर डाटा के विभिन्न समूहों को अलग करने के लिए उपयोग किए जाने वाले दृश्य तत्वों की पहचान करता है।
  • लीजेंड आपको समूहन के प्रभावों का मूल्यांकन करने में मदद करता है। उदाहरण के लिए, पूर्ववर्ती ग्राफ में लीजेंड नियंत्रण और शिक्षा समूहों का प्रतिनिधित्व करने के लिए इस्तेमाल किए गए प्रतीकों और कनेक्ट लाइनों की विशेषताओं को दर्शाता है।
  • किसी लीजेंड को दिखाना या छिपाना-

    अतीत का अध्ययन करने के लिए कौन-कौन से पुरातात्विक स्रोत उपलब्ध है​

    NIZZY123

    खुदाई और अन्वेषण, कंकाल के अवशेषों, इमारतों और मकबरों के अवशेष, मिट्टी के बर्तन, हथियार, उपकरण और सिक्के, शिलालेख और पत्थर की नक्काशी और डंप (middens), पुरातत्वविदों के परिणामस्वरूप बरामद किए गए पुरातात्विक स्रोतों में प्राचीन अवशेष और स्मारक शामिल हो सकते हैं। यहां तक ​​कि पानी के नीचे काम करते हैं

    Explanation:

    PLS MARK ME BRAINIEST

    akshat2176Rastogi

    Answer:

    Explanation:

    चार्ट का अर्थ | चार्ट के प्रकार | चार्टो का प्रभावपूर्ण उपयोग | Charts in Hindi

    चार्ट का अर्थ

    चार्ट का अर्थ

    चित्र या ग्राफो के रूप में जो कुछ अलग-अलग प्रदर्शित किया जा सकता है उन सभी को सुविधापूर्वक अलग-अलग या इक्ट्ठे रूप में प्रदर्शित करने का कार्य चाटों द्वारा अच्छी तरह किया जा सकता है। डेल के अनुसार, “चार्ट एक दृश्य सामग्री चिन्ह ” है जो विषय-वस्तु के सार, तुलना या किसी दूसरी क्रिया की व्याख्या करने में सहायता देता है” चार्ट की सहायता से संख्यात्मक और गुणात्मक दोनो ही प्रकार की सूचनाओं व तथ्यों को प्रदर्शित किया जा सकता है। कक्षा शिक्षण के प्रत्येक स्तर पर चाहे वह पूर्व ज्ञान परीक्षा या प्रस्तावना से सम्बन्धित हो या विषय वस्तु के क्रमबद्ध प्रस्तुतीकरण, पुनरावृति, अभ्यास अथवा गृहकार्य प्रदान करने से, चार्ट सभी स्तर पर अध्यापक को उपलब्ध चार्ट स्रोत उसके कार्य में सहायता प्रदान करते है। यही कारण है कि सभी विषयों से सम्बन्धित पाठ्य सामग्री के शिक्षण-अधिगम कार्यो में वार्टो से पूरी सहायता लेने का प्रयास किया जाता है। तथ्यो या विचारो को एक क्रमबद्ध लड़ी में प्रस्तुत करने के लिए चार्ट अत्यन्त महत्वपूर्ण सिद्ध होते है। उपलब्ध चार्ट स्रोत उदाहरण के लिए इतिहास शिक्षण में महात्मा बुद्ध की शिक्षाओं को स्पष्ट किया जा सकता है।

    चार्टी के प्रकार (Types of Chart )

    चार्ट कई प्रकार के होते है अध्यापक पाठ के अनुसार चार्ट तैयार करवाकर शिक्षण उपागम के रूप में प्रयोग कर सकता है। कुछ चार्ट इस प्रकार है-

    (1) समय चार्ट (Time Chart ) :- इसे समय सारणी भी कहते है। इनके प्रयोग से अधिकतर ऐतिहासिक तिथियों, घटनाओं, कालक्रमानुसार विभिन्न शासको व युद्धों का वर्णन क्रम के अनुसार प्रस्तुत किया जाता है।

    (2) तालिका चार्ट (Table Chart ) :- इनमें कई प्रकार के खाने बनाकर विचारो, घटनाओं तथा विवरणो को क्रमानुसार व्यवस्थित किया जाता है। ऐतिहासिक घटनाओं का क्रम, शासको का क्रम, युद्धों आदि की सूची भी समयानुसार इन चार्टो द्वारा दी जाती है।

    ( 3 ) धारा चार्ट (Flow Chart ):- इसके द्वारा किसी वस्तु का क्रमिक विकास तथा राजे- महाराजाओं का उत्थान व पतन दर्शाया जाता है। कानून की रचना का चार्ट बनाया जाता है।

    चार्टो का प्रभावपूर्ण उपयोग ( Effective Use of Charts )

    चार्टो का दृश्य साधन के रूप में अच्छी तरह प्रयोग करने के लिए निम्न बातों पर ध्यान दिया जाना चाहिए-

    (i) चार्टो के द्वारा निश्चित शैक्षिक उद्देश्यो की प्राप्ति में सहायता मिलनी चाहिए।

    (ii) यद्यपि विभिन्न प्रकार के चार्ट पुस्तकालय तथा बाजार में उपलब्ध हो सके परन्तु जहाँ तक संभव हो सके इनका निर्माण अध्यापक की देख-रेख में छात्रों द्वारा किया जाना चाहिये।

    (iii) जिस विचार, तथ्य, सूचना अथवा प्रक्रिया को चार्ट द्वारा प्रदर्शित करना हो उसके ऊपर भली-भाँति विचार कर चार्ट की दृश्य सामग्री को इस प्रकार दिखाया जाना चाहिए कि उससे प्रस्तुत विषय को स्पष्ट एंव प्रभावपूर्ण ढंग से अभिव्यक्त किया जा सके।

    (iv) विषय वस्तु, छात्रों स्तर, उपलब्ध शिक्षण-अधिगम परिस्थितियों आदि बातों को ध्यान में रखकर ही उपयुक्त प्रकार के चार्टो का चयन उपलब्ध चार्ट स्रोत किया जाना चाहिये।

    विटामिन सी डाइट चार्ट - Vitamin C Diet Chart in Hindi

    इसके बारे में

    एस्कॉर्बिक एसिड जिसे विटामिन सी के रूप में भी जाना जाता है, यह व्यक्ति का संपूर्ण स्वास्थ्य संकेतक है। 'रोकथाम से बेहतर है' कहकर जीने वाले लोग विटामिन सी की मात्रा को गंभीरता से लेते है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है, उच्च रक्तचाप को कम करता है, मोतियाबिंद, घावों को ठीक करता है और अस्थमा को नियंत्रित करता है। यह पानी में घुलनशील विटामिन एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है। यह सबसे सुरक्षित विटामिन है जो दैनिक बीमारियों और बीमारी के इलाज के लिए उपलब्ध है। विटामिन सी आहार कैंसर के रूप में बड़ी बीमारियों को भी रोक देगा। यह शरीर में कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं की संख्या को कम करता है। कैंसर रोगी पर इसका प्रशासन ट्यूमर के आकार और जोखिम को काफी कम करता है। यह स्ट्रोक का मुकाबला करता है, हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है, विषाक्तता का नेतृत्व करता है, रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है, ऑस्टियोआर्थराइटिस में मदद करता है। इन सभी लाभों के साथ विटामिन सी आहार आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए और मूड को हानि नहीं पहुंचाएगा। विटामिन सी का सेवन करना महत्वपूर्ण है क्योंकि इसे मानव शरीर में संश्लेषित नहीं किया जा सकता है। इसे विभिन्न अन्य संश्लेषण प्रक्रियाओं में मदद करने के लिए बाहर से लेना पड़ता है। अमरूद, स्ट्रॉबेरी, पपीता जैसे फल विटामिन सी के प्रमुख आपूर्तिकर्ता हैं। आहार में विटामिन सी की मात्रा आपकी उम्र के अनुसार बदलती रहती है। शिशुओं के लिए: 0 - 12 महीने: बच्चों के लिए 50 मिलीग्राम / दिन: 1-13 साल: 45 मिलीग्राम / दिन किशोरों के लिए: 14 - 18 - साल: 75 मिलीग्राम / दिन वयस्कों के लिए: 19 वर्ष और उससे अधिक उम्र के पुरुषों: 90 मिलीग्राम / दिन l

    इन फूड आइटम का सेवन लिमिट में करें

    1. कैंडी, सोडा, चीनी, सफेद चावल, सफेद पास्ता, सफेद ब्रेड, मीठा सिरप, नाश्ते में खाने वाले अनाज, डेसर्ट, और पेस्ट्री से बचें सरल कार्बोहाइड्रेट होते हैं।
    2. सैचुरेटेड फैट में मार्जरीन, मक्खन, अंडे, दूध, पनीर, और लाल मांस से बचें।
    3. लाल मांस खाने से बचें क्योंकि इसमें सैचुरेटेड फैट के उच्च स्तर होते हैं जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाते हैं।
    4. तले हुए भोजन जैसे तला हुआ चिकन, गहरे तले हुए खाद्य पदार्थ, और आलू फ्राई खाने से बचें।
    5. शराब से बचें l
    6. गैस से भरे हुए और बनावटी रूप से बने मीठे पेय (अर्टिफिशियल मीठे) से बचें।

    सौभाग्य से, इस कमी को दूर करना बहुत मुश्किल नहीं है। विटामिन सी खट्टे फल और जामुन के साथ-साथ अंकुरित अनाज और दालों में और धनिया पत्ती में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। हालाँकि आपको जो याद रखना चाहिए, वह यह है कि विटामिन सी को शरीर द्वारा संग्रहित नहीं किया जा सकता है। सभी अतिरिक्त बाहर निकल जाते हैं, यही कारण है कि हर दिन कम से कम कुछ मात्रा में विटामिन सी होना जरूरी है।

    फूड आइटम जिनका आप आसानी से सेवन कर सकते है

    1. खट्टे फल: विटामिन सी का सबसे आम स्रोत खट्टे फल हैं। यह कहा जाता है कि प्रति दिन एक चूना या नारंगी उनकी आवश्यक खुराक प्राप्त करने के लिए पर्याप्त हो सकता है।
    2. बेल पेपर्स: चाहे आप इटेलियन पुलाव को पका रहे हों या एशियाई सरगर्मी में सब्जियों को भून रहे हों, अपने विटामिन सी किक के लिए बेल मिर्च डालना सुनिश्चित करें।
    3. ब्रोकोली: यह आश्चर्य की सब्जी फायदे का एक भंडार है। विटामिन सी के साथ पैक, इसे अपने सलाद में शामिल करें।
    4. पपीता: सिर्फ आधा कप पपीता आपको पूरे दिन के लिए पर्याप्त विटामिन दे सकता है। यह कई अन्य लाभ फल के लिए अतिरिक्त प्रेरणा है।
    5. स्ट्रॉबेरी: स्ट्रॉबेरी और क्रीम का एक कटोरा पापी हो सकता है लेकिन यह विटामिन सी के साथ भी पैक किया जाता है।
    6. टमाटर: कच्चा खाया जाता है, टमाटर में विटामिन बहुत होता है। उन्हें सादा खाएं या सलाद में टॉस करें, उन्हें सैंडविच या बर्गर में शामिल करें, टमाटर खाने के लिए सबसे बहुमुखी फल हैं।

    Hand Held Terminal: अब ट्रेन में टीटीई के हाथ में नहीं दिखेगा आरक्षण चार्ट, जानें- कैसे होगा टिकट चेक?

    By: दिनेश कश्यप, कोटा | Updated at : 03 Sep 2022 10:54 PM (IST)

    हैंड हेल्ड टर्मिनल से लैस हुए टीटीई

    Kota Hand Held Terminal: डिजिटल इंडिया (Digital India) अभियान को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रेलवे (Indian Railway) की तरफ से चलती ट्रेन में आरक्षित टिकट की जांच के लिए टिकट चल निरीक्षकों/परीक्षकों द्वारा हैंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) उपकरण का उपयोग किया जा रहा है. ऐसे में अब टीटीई (TTE) के हाथ में पहले की तरह चार्ट दिखाई नहीं देगा. इसी कड़ी में राजस्थान (Rajasthan) के कोटा (Kota) मंडल में भी चलती ट्रेन में आरक्षित टिकट की जांच निरीक्षकों/परीक्षकों द्वारा आरक्षण चार्ट की जगह पर अब डिजिटल तकनीकी की नई ई-डिवाइस हैंड हेल्ड टर्मिनल से की जा रही है.

    पमरे ने कोटा मंडल को 182 हैंड हेल्ड टर्मिनल उपलब्ध कराए हैं. इसके लिए मंडल के टिकट चैकिंग स्टाफ को प्रशिक्षित किया गया है. इस नई ई-डिवाइस रूपी अत्याधुनिक तकनीकी से परिपूर्ण हैंड हेल्ड टर्मिनल की शुरुआत सबसे पहले कोटा मंडल की कोटा से निजामुद्दीन के बीच चलने वाली जन शताब्दी और उदयपुर से निजामुद्दीन के बीच चलने वाली मेवाड़ एक्सप्रेस में की गई है. वर्तमान में कोटा मंडल के सभी मेल/एक्स ट्रेनों उपलब्ध चार्ट स्रोत में आरक्षित टिकट की जांच के लिए हैंड हेल्ड टर्मिनल उपकरण का उपयोग किया जा रहा है.

रेटिंग: 4.25
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 716