आमतौर पर नए-नए निवेशकों को 500 रुपये के मुकाबले 50 रुपये वाले स्टॉक ज्यादा आकर्षक लगते हैं, सस्ते लगते हैं। ये उन निवेशकों की बड़ी भूल हो सकती है। इसे आप एक उदाहरण से समझ सकते हैं। आप सब्जी मार्केट जाते हैं। वहां आपको आलू 50 रुपये किलो मिल रहा होता है, और परवल 60 रुपये किलो। आप किसे सस्ता समझेंगे। जो लोग सब्जी मार्केट नहीं जाते हैं उन्हें आलू और परवल में यहां आलू सस्ता लगेगा, लेकिन हकीकत में यहां आलू के मुकाबले परवल सस्ता है। अमूमन आलू का भाव खुदरा मार्केट में 30 रुपये प्रति किलो के ईर्द-गिर्द रहता है बशर्ते कि उसकी सप्लाई में कोई बड़ी कमी न हो, या फिर किसी अप्रत्याशित कारण से अचानक उसकी डिमांड न बढ़ गई हो। जबकि परवल अपने सीजन क्या स्टॉक का 1 शेयर खरीदना इसके लायक है? में 15 से 20 रुपये पाव के हिसाब से दिल्ली-एनसीआर में आसानी से मिल जाता है। यानी परवल की यहां Intrinsic Value(जिसे हम आम बोल-चाल की भाषा में मोलाई भाव भी कह सकते हैं)उसके करेंट प्राइस के बराबर या पास में है। यानि आमतौर पर कोई भी ग्राहक दुकानदार से दाम कम करने के लिए नहीं कहेगा। इसका मतलब ये है कि उस ग्राहक को पता है कि परवल सही दाम पर बिक रहा है। और वो अपने हिसाब से परवल ले लेता है। लेकिन 50 रुपये प्रति किलो आलू बेचने वाले के पास ग्राहक जाकर उससे दाम कम करने के लिए जरूर कहेगा। यानी उस ग्राहक को आलू का Intrinsic Value पता है। जो अभी काफी ज्यादा है। इस उदाहरण से आप समझ गए होंगे कि परवल यहां आलू के मुकाबले सस्ता है। अगर आप ये बात जान गए तो आप अच्छे शेयर का चुनाव भी कुछ यही फॉर्मूला लगाकर कर सकते हैं।

1-

आप बस एक क्लिक में Apple के शेयर खरीद सकते हैं, जानिए कैसे?

Google, एपल, फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट जैसी कंपनियों के शेयरों से होने वाला मुनाफा देखकर आपने भी इनमें निवेश करने के बारे में सोचा होगा। अगर कुछ ऐसा ही खयाल आपके मन में है तो हम बता रहे हैं कि आप कैसे निवेश कर सकते हैं।

Apple का मार्केट कैपिटलाइजेशन करीब 2.51 लाख करोड़ डॉलर है। इसके बाद माइक्रोसॉफ्ट लगभग 2.27 लाख करोड़ करोड़ डॉलर पर है। अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड होने के बावजूद एपल के शेयर्स को भारत में खरीदा जा सकता है।

नैस्डेक स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड एपल के शेयर्स को खरीदना आपके iPhone से NSE पर ट्रेडिंग वाले स्टॉक्स को खरीदने जितना ही आसान है।

स्टॉक मार्केट के एक्सपर्ट्स ने बताया कि कुछ ऐप्स भारतीय इनवेस्टर्स को आसानी से विदेशी स्टॉक्स को खरीदने की सुविधा देती हैं।

एपल के शेयर का प्राइस अभी लगभग 152 डॉलर है और इसकी 52 सप्ताह की रेंज 103.10 डॉलर से 154.98 डॉलर के बीच है। मौजूदा मार्केट प्राइस पर एपल के शेयर का देश में प्राइस लगभग 11,000 रुपये है। हालांकि, इनवेस्टर्स एपल, एमेजॉन या माइक्रोसॉफ्ट सहित अमेरिकी स्टॉक्स का कुछ हिस्सा भी खरीद सकते हैं।

2- टेक महिंद्रा

2-

यह कंपनी इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से जुड़ी हुई है, जो टेलीकम्युनिकेशन सेक्टर में अपने एक्सपर्ट्स से तमाम तरह के समाधान मुहैया कराती है। माना जा रहा है कि भारत में 5जी सेवाओं के कमर्शियल लॉन्चिंग के बाद कंपनी के शेयर्स की कीमतें तेजी से बढ़ सकती हैं।

कंपनी का 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर 501.5 रुपये का है, जबकि उच्चतम स्तर 1081.25 रुपये का है। यानी कंपनी ने क्या स्टॉक का 1 शेयर खरीदना इसके लायक है? 52 हफ्तों में करीब दोगुना रिटर्न दिया है।

3- भारती एयरटेल

3-

यह एक ब्लू चिप कंपनी है, जो टेलीकम्युनिकेशन सर्विस प्रोवाइडर के तौर पर बाजार के करीब 36 फीसदी हिस्से पर कब्जा किए हुए है। कंपनी ने तो कई इलाकों में 5जी सेवाओं का ट्रायल भी क्या स्टॉक का 1 शेयर खरीदना इसके लायक है? शुरू कर दिया है।

कंपनी का 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर 394 रुपये है, जबकि 52 हफ्तों का उच्चतम स्तर 623 रुपये है। यानी कंपनी के शेयर्स ने साल भर में करीब 58 फीसदी रिटर्न दिया है।

4- रिलायंस इंडस्ट्रीज

4-

रिलायंस इंडस्ट्रीज कंपनी रिलायंस जियो की प्रमोटर कंपनी है, जो टेलिकॉम इंडस्ट्री में एक लीडर बन चुकी है। लगातार जियो की बाजार में हिस्सेदारी बढ़ती ही जा रही है। माना जा रहा है कि 5जी तकनीक के चलते जियो का मार्केट शेयर तेजी से बढ़ेगा।

रिलायंस इंडस्ट्रीज का पिछले 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर 1393.65 रुपये का है, जबकि उच्चतम स्तर 2368.80 रुपये का है। यानी कंपनी ने साल भर में करीब 69 फीसदी का रिटर्न दिया है।

5- वोडाफोन आइडिया

5-

यह कंपनी भारत में तीसरी सबसे बड़ी टेलीकम्युनिकेशन सर्विस प्रोवाइडर है। कभी कैपिटल और निवेशकों की किल्लत झेल रही ये कंपनी वोडाफोन और आइडिया के मर्जर के बाद बेहद बुरी हालत में पहुंच गई थी। कंपनी के शेयर की कीमत 30 रुपये से गिरकर 2 रुपये तक पहुंच गई थी और बाद में 6 गुना तक रिटर्न दिया। 5जी सर्विस के लिए वोडाफोन आइडिया भी आगे आ रही है, जिससे इसके शेयरों के दाम बढ़ेंगे।

कंपनी का 52 हफ्तों का न्यूनतम स्तर 4.19 रुपये है, जबकि उच्चतम स्तर 13.8 रुपये है। यानी कंपनी ने साल भर में करीब 229 फीसदी का रिटर्न दिया है।

शेयर बाजार में पैसे कमाने के 7 गोल्‍डेन टिप्‍स, देखते-देखते बन जाएंगे मालामाल

Linkedin

how to make money from stock market: शेयर बाजार एक ऐसी जगह है, जहां निवेशकों को लगता है कि रातोंरात कमाई की जा सकती है. कई बार ऐसा होता है कि कुछ घंटे में ही शेयर से मोटा मुनाफा हो जाता है. बावजूद इसके यह ध्‍यान रखना चाहिए कि इक्विटी में ट्रेडिंग हमेशा से आसान नहीं है. बाजार में आपको अनुशासन और धैर्य की जरूरत पड़ती है. मार्केट में निवेश से पहले अच्‍छी तरह रिसर्च कर लेनी चाहिए. आइए जानते हैं 7 ऐसे गोल्‍डेन टिप्‍स, जिनका अगर ध्‍यान रखा जाए तो शेयर बाजार से जमकर कमाई की जा सकती है.

किसी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले इस तरह चेक करें कि वह सस्ता है या महंगा, हमेशा फायदे में रहेंगे

ANISH KUMAR SINGH

Written By: ANISH KUMAR SINGH
Updated on: November 20, 2022 21:59 IST

शेयर - India TV Hindi

Photo:FILE शेयर

नई दिल्ली, अनीश कुमार सिंह। म्यूचुअल फंड से अपनी इन्वेस्टमेंट की यात्रा शुरू करने के बाद एक समय ऐसा आता है कि आप क्या स्टॉक का 1 शेयर खरीदना इसके लायक है? शेयरों को भी इन्वेस्टमेंट के लिहाज से खरीदकर लॉन्ग टर्म के लिए रखना चाहते हैं। ऐसे में बहुत से लोग पेनी स्टॉक में फंस जाते हैं। पेनी स्टॉक वैसे स्टॉक होते हैं जिनकी कीमत 50 रुपये प्रति शेयर से कम होती है। नए-नए इन्वेस्टर्स इन पेनी स्टॉक को सस्ता समझकर खरीद लेते हैं। चूंकि इस तरह के स्टॉक में Volatility यानी अस्थिरता ज्यादा होती है और इनमें से कई फंडामेंटली स्ट्रॉन्ग भी नहीं होते, इसलिए नए-नए निवेशक इन पेनी स्टॉक्स में उलझकर अपना बड़ा नुकसान कर लेते हैं। ऐसे नुकसान से बचने के लिए क्या करें, आइए जानते हैं।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 874