' अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार'

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 77.02 प्रति डॉलर पर खुला. कारोबार के दौरान यह 76.71 प्रति डॉलर के उच्चस्तर तक गया और 77.05 के निचले स्तर को छूने के बाद अंत में यह 77.00 प्रति डॉलर के स्तर बंद हुआ, जो पिछले बंद भाव के मुकाबले सात पैसे की गिरावट को दर्शाता है.

अमेरिकी मुद्रा की मजबूती और कच्चे तेल के दाम बढ़ने से सोमवार को शुरुआती कारोबार में डालर के मुकाबले रुपया 14 पैसे गिरकर 73.16 रुपये प्रति डालर पर रहा. अंतर बैंक विदेशी मूद्रा विनिमय बाजार में डालर के मुकाबले रुपये में कारोबार की शुरुआत 73.13 रुपये प्रति डालर पर हुई। उसके कुछ देर बाद ही यह और गिरकर 73.16 रुपये प्रति डालर पर पहुंच गया. यह दर पिछले कारोबारी सत्र के बंद भाव के मुकाबले 14 पैसे नीचे रही. गत सप्ताहांत शुक्रवार को रुपया 73.02 पर बंद हुआ था.

अमेरिकी मुद्रा के कमजोर पड़ने और घरेलू शेयर बाजारों से विदेशी मुद्रा की कीमतें सकारात्मक संकेत मिलने से बुधवार को अंतर बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 10 पैसे बढ़कर 74.94 रुपये प्रति डॉलर (अस्थाई) पर बंद हुआ. अंतर बैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में घरेलू मुद्रा में कारोबार की शुरुआत 74.93 रुपये प्रति डॉलर के भाव पर मजबूती के साथ हुई. इसके बाद यह कारोबार के दौरान 74.83 से लेकर 74.95 रुपये प्रति डॉलर के दायरे में रही. कारोबार की समाप्ति पर यह अंतत: पिछले दिने के बंद भाव के मुकाबले रुपया 10 पैसे की मजबूती के साथ 74.94 रुपये प्रति डॉलर विदेशी मुद्रा की कीमतें पर बंद हुआ. मंगलवार को रुपया 75.04 रुपये प्रति डॉलर के भाव पर बंद हुआ था.

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया 71.97 रुपये प्रति डॉलर पर खुला और शुरुआती कारोबार में सोमवार के बंद से 16 पैसे गिरकर 72 रुपये पर आ गया. रुपया सोमवार को 71.84 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में शुरुआती कारोबार में रुपया आज अमेरिकी मुद्रा की तुलना में 28 पैसे सुधरकर 51.88 रुपये प्रति डॉलर दर्ज किया गया।

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया आज शुरुआती कारोबार में अमेरिकी मुद्रा की तुलना में 12 पैसे सुधरकर 52.28 रुपये प्रति डॉलर दर्ज किया गया।

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार के शुरुआती कारोबार में रुपया सोमवार को अमेरिकी मुद्रा की तुलना में पांच पैसे सुधरकर 55.23 रुपये प्रति डॉलर रहा।

आयातकों की ओर से डॉलर की मांग बढ़ने के बाद अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर की तुलना में रुपया 52 पैसे नीचे 55.49 पर खुला।

डॉलर की तुलना में यूरो में मजबूती आने और पूंजी प्रवाह बढ़ने के बीच आज अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया छह पैसे मजबूत होकर 55.55 के स्तर पर खुला।

अंतर बैंक विदेशी मुद्रा बाजार के शुरुआती कारोबार में रुपया आज अमेरिकी मुद्रा की तुलना में 27 पैसे टूटकर 55.92 रुपये प्रति डॉलर रहा।

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है

हिंदी

विदेशी मुद्रा व्यापार क्या है, और यह कैसे काम करता है?

सबसे पहले, यह समझना जरूरी है कि विदेशी मुद्रा बाजार क्या है। विदेशी मुद्रा या विदेशी मुद्रा बाजार वह जगह है जहां एक मुद्रा का दूसरे के लिए कारोबार किया जाता है। यह दुनिया के सबसे सक्रिय रूप से कारोबार किए गए वित्तीय बाजारों में से एक है। वॉल्यूम इतने विशाल हैं कि वे दुनिया भर के शेयर बाजारों में सभी संयुक्त लेनदेन से अधिक हैं।

विदेशी मुद्रा बाजार की एक वैश्विक पहुंच है जहां दुनिया भर से खरीदार और विक्रेता व्यापार के लिए एक साथ आते हैं। ये व्यापारी एक दूसरे के बीच सहमत मूल्य पर धन का आदान प्रदान करते हैं। इस प्रक्रिया के माध्यम से व्यक्ति, कॉर्पोरेट और देशों के केंद्रीय बैंक एक मुद्रा का दूसरे में आदान-प्रदान करते हैं। जब हम विदेश यात्रा करते हैं, तो हम सभी विदेशी देश की कुछ मुद्रा खरीदते हैं। यह अनिवार्य रूप से एक विदेशी मुद्रा लेनदेन है।

इसी तरह, कंपनियों को अन्य देशों में वस्तुओं और सेवाओं को खरीदने की आवश्यकता होती है और इसके लिए विदेशी मुद्रा की आवश्यकता होगी। मान लें कि भारत में एक कंपनी संयुक्त राज्य अमेरिका से उत्पाद खरीद रही है। भारतीय कंपनी को उत्पादों के आपूर्तिकर्ता का भुगतान अमेरिकी डॉलर में करना पड़ता है। इसका विदेशी मुद्रा की कीमतें मतलब यह है कि कंपनी को खरीद करने के लिए जिस डॉलर की जरूरत है उसके बराबर रुपये का आदान-प्रदान करना होगा। विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है?

अब जब हमने विदेशी मुद्रा व्यापार की मूल बातें समझ ली हैं, तो हम देखेंगे कि यह इतने बड़े पैमाने पर क्यों किया जाता है। मुख्य कारण अटकलें हैं: मुद्रा के मूल्य में परिवर्तन से लाभ कमाने के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार किया जाता है। विभिन्न आर्थिक और राजनीतिक कारकों के कारण मुद्रा मूल्य बदलते रहते हैं, जिनमें भुगतान संतुलन, मुद्रास्फीति और ब्याज दर में परिवर्तन शामिल हैं। ये मूल्य परिवर्तन उन व्यापारियों के लिए आकर्षक बनाते हैं, जो अपने हंच सही होने से लाभ की उम्मीद करते हैं। हालांकि, अधिक लाभ की संभावना के साथ, उच्च जोखिम आता है।

शेयरों की तरह, विदेशी मुद्रा व्यापार के लिए कोई केंद्रीय बाजार नहीं है। दुनिया भर के व्यापारियों के बीच कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करके लेन-देन होता है। मुद्राओं का कारोबार न्यू यॉर्क, टोक्यो, लंदन, हांगकांग, सिंगापुर, पेरिस, आदि जैसे प्रमुख वित्तीय केंद्रों में किया जाता है। इसलिए जब एक बाजार बंद हो जाता है, तो दूसरा खुलता है। यही कारण है कि विदेशी मुद्रा बाजार दिन या रात के लगभग किसी भी समय सक्रिय रहते हैं।

मुद्रा व्यापार की मूल बातों के पहलुओं में से एक यह है कि यह जोड़े में होता है – एक मुद्रा की कीमत की तुलना दूसरे के साथ की जाती है। मूल्य उद्धरण में प्रकट होने वाले पहले को आधार विदेशी मुद्रा की कीमतें मुद्रा के रूप में जाना जाता है, और दूसरे को उद्धरण मुद्रा कहा जाता है। उदाहरण के लिए, यू एस डॉलर / भारतीय रुपया जोड़ी व्यापारी को यह जानकारी देती है कि एक अमेरिकी डॉलर (मूल मुद्रा) खरीदने के लिए कितने भारतीय रुपए की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, एक विशिष्ट तिथि पर जोड़ी यू एस डॉलर 1/ भारतीय रुपया 67.5 रुपये हो सकती है। आधार मुद्रा को हमेशा एक इकाई के रूप में व्यक्त किया जाता है।विदेशी मुद्रा व्यापार में कोई भी मुद्रा आधार मुद्रा हो सकती है।

विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे करें?

अब जब आप जानते हैं कि विदेशी मुद्रा व्यापार कैसे काम करता है, तो मुद्रा व्यापार करने के लिए तीन अलग-अलग प्रकार के विदेशी मुद्रा बाजारों को समझना आवश्यक है।

स्पॉट मार्केट:

यह एक मुद्रा जोड़ी के भौतिक आदान-प्रदान को संदर्भित करता है। एक स्पॉट लेनदेन एक ही बिंदु पर होता है – व्यापार को ‘स्पॉट’ पर बसाया जाता है। ट्रेडिंग एक संक्षिप्त अवधि के दौरान होता है। मौजूदा बाजार में, मुद्राएं मौजूदा कीमत पर खरीदी और बेची जाती है। किसी भी अन्य वस्तु की तरह, मुद्रा की कीमत आपूर्ति और मांग पर आधारित होती है। मुद्रा दरें अन्य कारकों से भी प्रभावित होती हैं जैसे ब्याज दरों, अर्थव्यवस्था की स्थिति, राजनीतिक स्थिति, दूसरों के बीच अन्य। एक स्पॉट सौदे में, एक पार्टी किसी अन्य पार्टी को एक विशेष मुद्रा की एक निश्चित राशि प्रदान करती है। बदले में, यह एक सहमत मुद्रा विनिमय दर पर दूसरी पार्टी से एक और मुद्रा की एक सहमत राशि प्राप्त करता है।

फिर फॉरवर्ड विदेशी मुद्रा बाजार और वायदा विदेशी मुद्रा बाजार हैं। इन दोनों बाजारों में, मुद्राएं तुरंत हाथ नहीं बदलती हैं। इसके बजाय, एक निश्चित अंतिम तिथि पर एक विशिष्ट मूल्य पर, मुद्रा की एक निश्चित मात्रा के लिए अनुबंध हैं।

फॉरवर्ड्स मार्केट:

फॉरवर्ड फॉरेक्स मार्केट में, दो पार्टियां किसी निश्चित तिथि पर किसी निश्चित मूल्य पर किसी मुद्रा की एक निश्चित मात्रा में खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध में प्रवेश करती हैं।

मुद्रा वायदा भविष्य की तारीख में निश्चित मूल्य पर किसी विशेष मुद्रा को खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध विदेशी मुद्रा की कीमतें हैं। इस तरह के अनुबंधों का एक मानक आकार और अंतिम अवधि है और सार्वजनिक एक्सचेंजों पर कारोबार किया जाता है। भारत में विदेशी विदेशी मुद्रा की कीमतें मुद्रा व्यापार भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। एक्सचेंजों द्वारा निकासी और निपटान का ध्यान रखा जाता है।

विदेशी मुद्रा व्यापार भारत में कैसे करें:

अब जब हमने मुद्रा व्यापार की मूल बातें देखी हैं, तो हम भारत में मुद्रा व्यापार करने के तरीके के बारे में और बात करेंगे।

भारत में, बीएसई और एनएसई मुद्रा वायदा और विकल्पों में व्यापार करने की पेशकश करते विदेशी मुद्रा की कीमतें हैं। यू एस डॉलर /भारतीय रुपया सबसे अधिक कारोबार वाली मुद्रा जोड़ी है। हालांकि, जब मुद्रा व्यापार की बात आती है तो अन्य अनुबंध भी लोकप्रिय हो रहे हैं। यदि आप एक व्यापारी जो मुद्रा बदलावों पर एक स्थान लेना चाहता है, तो आप मुद्रा वायदा में व्यापार कर सकते हैं। मान लीजिए कि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर जल्द ही भारतीय रुपए मुकाबले बढ़ जाएगा । आप तो अमरीकी डालर/ भारतीय रुपया वायदा खरीद सकते हैं। दूसरी ओर, यदि आप उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले INR मजबूत होगा, तो आप यू एस डॉलर /भारतीय रुपया वायदा बेच सकते हैं।

हालांकि, यह समझने की जरूरत है कि विदेशी मुद्रा व्यापार हर किसी के लिए नहीं है। यह उच्च स्तर के जोखिम के साथ आता है। विदेशी मुद्रा में व्यापार करने से पहले, अपने जोखिम की भूख को जानना आवश्यक है और इसमें विदेशी मुद्रा की कीमतें आवश्यक स्तर का ज्ञान और अनुभव भी होना चाहिए। विदेशी मुद्रा में व्यापार करते समय, आपको पता होना चाहिए कि कम से कम शुरुआत में पैसे खोने का एक अच्छा डर बना रहता है।

मुद्रा का दबाव: डॉलर के मुकाबले रुपये का अवमूल्यन

दुनिया के अन्य प्रमुख मुद्राओं के साथ रुपया एक फिर से एक नए दबाव का सामना कर रहा है। फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में भारी - भरकम 75 आधार अंकों की ताजा वृद्धि और अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा अपना ध्यान पूरी तरह से मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने पर केंद्रित रखने के स्पष्ट संदेश के मद्देनजर डॉलर में मजबूती जारी है। सप्ताह के अंत में एक नए रिकॉर्ड स्तर पर लुढ़क कर बंद होने से पहले, भारतीय मुद्रा शुक्रवार को दिन – भर के व्यापार (इंट्राडे ट्रेड) के दौरान पहली बार डॉलर के मुकाबले 81 अंक के पार जाकर कमजोर हुई। अस्थिरता को कम करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप से रुपये में गिरावट की रफ्तार को नरम किया गया। लेकिन 16 सितंबर से 12 महीनों में इस तरह के हस्तक्षेपों का कुल नतीजा यह हुआ कि भारतीय रिजर्व बैंक के विदेशी मुद्रा भंडार के आपातकालीन कोष में लगभग 94 बिलियन डॉलर की कमी आई और यह कोष अब घटकर 545.65 बिलियन डॉलर का रह गया है। डॉलर के मुकाबले अकेले रुपये में ही गिरावट नहीं होने का तथ्य अपने कारोबार के सुचारू संचालन के लिए कच्चे माल या सेवाओं के आयात पर निर्भर रहने वाली भारतीय कंपनियों के लिए थोड़ा सा भी सुकून भरा नहीं हो सकता है। ये कंपनियां एक ऐसे समय में बढ़ती लागत की समस्या से जूझ रहीं हैं, जब महामारी के बाद की स्थिति में घरेलू मांग का एक टिकाऊ स्तर पर पहुंचना अभी भी बाकी है। आयात का बढ़ता खर्च भी पहले से ही लगातार बढ़ती मुद्रास्फीति से घिरी अर्थव्यवस्था पर मुद्रास्फीति के दबाव में और इजाफा करेगा तथा चढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के मौद्रिक नीति निर्माताओं के प्रयासों को और अधिक जटिल बनाएगा।

इस साल 24 फरवरी को यूक्रेन पर रूस के हमले के मद्देनजर आई लगभग तमाम गिरावटों के साथ 2022 में अब तक डॉलर के मुकाबले रुपये में आठ फीसदी के अवमूल्यन ने कच्चे तेल की खरीद पर भारतीय खर्च में काफी हद तक हुई कमी और उसके युद्ध-पूर्व स्तरों के करीब पहुंच

जाने से मिले फायदों को बेजान कर दिया है। अगस्त में और इस महीने के अधिकांश वक्त तक स्थानीय परिसंपत्तियों की खरीद फिर से शुरू करने के बाद विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक भी पिछले दो सत्रों के दौरान एक बार फिर से भारतीय शेयरों और देनदारियों के शुद्ध विक्रेता बन गए हैं। नतीजतन, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने कुल निवेश के तीन लगातार वर्षों के बाद 2022 में अब तक कुल 20.6 बिलियन डॉलर मूल्य की भारतीय इक्विटी और देनदारियों से अपना हाथ खींच लिया है। और, फेडरल रिजर्व द्वारा कम से कम 125 आधार अंकों की और अधिक मौद्रिक सख्ती के अनुमान से इस वर्ष की अंतिम तिमाही में और अधिक संख्या में विदेशी निवेशकों के बाहर निकल जाने की आशंका है। रुपये की वास्तविक प्रभावी विनिमय दर (आरईईआर) या इसके मूल्य के व्यापार-भारित औसत द्वारा भारतीय मुद्रा के अभी भी अधिमूल्यित होने या इसका मूल्य अधिक आंके जाने के संकेत के मद्देनजर भारतीय रिजर्व बैंक के दर निर्धारित करने वाले विदेशी मुद्रा की कीमतें पैनल को अगले सप्ताह विकास की रफ्तार को बाधित किए बिना मूल्य स्थिरता को बहाल करने और रुपया को बहुत तेजी से कमजोर होने से बचाने के लिए जूझने के क्रम में तलवार की धार पर चलना होगा।

कच्चे तेल की कीमतों में मजबूती से रुपया सात पैसे टूटकर 81.33 प्रति डॉलर पर

मुंबई, दो दिसंबर (भाषा) डॉलर के कमजोर होने के बावजूद स्थानीय बाजारों में गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी की वजह से शुक्रवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया सात पैसे की गिरावट के साथ 81.33 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बाजार सूत्रों ने कहा कि विदेशी पूंजी की बाजार से निकासी बढ़ने के कारण भी निवेशकों की कारोबारी धारणा प्रभावित हुई। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.11 पर खुला। कारोबार के दौरान रुपये का लाभ लुप्त हो गया और अंत में यह

बाजार सूत्रों ने कहा कि विदेशी पूंजी की बाजार से निकासी बढ़ने के कारण भी निवेशकों की कारोबारी धारणा प्रभावित हुई।

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.11 पर खुला। कारोबार के दौरान रुपये का लाभ लुप्त हो गया और अंत में यह सात पैसे की गिरावट दर्शाता 81.33 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान रुपये ने 81.08 के उच्चस्तर और 81.35 के निचले स्तर को छुआ। पिछले सत्र में रुपया चार पैसे की तेजी के साथ 81.26 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।

बीएनपी पारिबा बाय शेयरखान में अनुसंधान विश्लेषक, अनुज चौधरी ने कहा, ‘‘कमजोर अमेरिकी डॉलर इंडेक्स ने रुपये का समर्थन किया। हालांकि, कमजोर घरेलू बाजार, कच्चे तेल में उछाल और एफआईआई की धन निकासी से रुपया नुकसान में बंद हुआ।’’

इस बीच, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.18 प्रतिशत की गिरावट के साथ 104.53 पर आ गया।

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 0.17 प्रतिशत बढ़कर 87.03 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 415.69 अंक टूटकर 62,868.50 अंक पर बंद हुआ।

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे और उन्होंने बृहस्पतिवार को 1,565.93 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

रेटिंग: 4.23
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 138