ट्रेडिंग क्या है, Trading अकाउंट क्या है, ट्रेडिंग अकाउंट कैसे बनाते हैं, डीमैट अकाउंट के फायदे, ट्रेडिंग कितने प्रकार के होते हैं, ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट

ट्रेडिंग अकाउंट क्या है? इसके उपयोग क्या है?

Share Market में Invest करने के लिए कई प्रकार की जानकारियों का होना जरुरी होता है.

जैसे की Demat Account, Trading Account इत्यादी.

कुछ लोग Trading और Demat Account के बिच फर्क को नहीं जानते है. लेकिन इन दोनों के बिच बहुत बड़ा फर्क होता है.

पिछले पोस्ट में हमने Demat Account के बारे में बताया था. इसमें हम Trading Account के बारे में बताने वाले है.

इसमें आप जानेंगे की Trading Account क्या होता है ? ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है? और Trading Account के लाभ क्या है? Trading Account कैसे खोले?

ट्रेडिंग अकाउंट क्या है?

What Is Trading Account In Hindi

Trading Account Means Trade करने वाला Account.

शेयर मार्केट में किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने के लिए ट्रेडिंग Account का जरुरत पड़ता है.

यानि, Trading Account से ही किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने का काम होता है.

इस Account को शेयर मार्केट से जुड़ते समय खुलवाना होता है.

ट्रेडिंग अकाउंट कैसे काम करता है ?

Working A of Trading Account, How To Prepare Trading Account

Trading Account की प्रक्रिया Step-By-Step दिया गया है जो निम्न है.

Trading Account में पैसा Add करना

शेयर Price देखना

शेयर खरीद/बिक्री का Order देना

ऑर्डर Stock Exchange तक पहुचना

Counter Order मिलने पर यह ऑर्डर Execute होना

टैक्स और चार्ज के साथ ट्रेडिंग अकाउंट से पैसे कटना

Demat Account में शेयर जमा होना

Value बढ़ने पर शेयर बेचने का ऑर्डर रखना

बेचकर उसका पैसा टैक्स और ब्रोकरेज कटने के बाद ट्रेडिंग अकाउंट में जमा होना.

Benefits of a Trading Account

फ़ोन पर या ऑनलाइन शेयर खरीदना या बेचना

मार्किट अपडेट और फ़्री न्यूज़ अलर्ट

विश्लेषकों की एक अनुभवी टीम से सलाह

व्यक्तिगत ट्रेडिंग सीमा निर्धारित करने की अनुमति

शेयर मार्केट में निवेश: डीमैट अकाउंट खोलते समय ट्रांजेक्शन और मेंटेनेंस चार्ज सहित इन 5 बातों का रखें ध्यान, इससे आपको मिलेगा ज्यादा फायदा

अगर आप शेयर मार्केट में निवेश का प्लान बना रहे हैं तो इसके लिए आपको डीमैट अकाउंट खोलना होगा। इसके बिना आप शेयर मार्केट में ट्रेडिंग नहीं कर सकते हैं। कहीं भी डीमैट अकाउंट खोलने से पहले इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि जिस ब्रोकेज हाउस में आप डीमैट अकाउंट खोल रहे हैं वो आपको कौन-कौन सी सुविधाएं देता और आपसे इसके बदले में कितना चार्ज लेगा। हम आपको ऐसी 5 बातों के बारे में बता रहें हैं जिनका ध्यान आपको डीमैट अकाउंट खोलते समय रखना चाहिए।

ब्रोकरेज और ट्रांजेक्शन फीस
भारत में ब्रोकरों के बीच डीमैट अकाउंट खोलने और ब्रोकरेज चार्ज अलग-अलग हैं। जबकि उनमें से ज्यादातर आजकल मुफ्त डीमैट खाते खोल रहे हैं। वे इक्विटी खरीदने और बेचने पर आपसे लेनदेन (ट्रांजेक्शन) फीस ले सकते हैं। डीमैट अकाउंट की फीस के अलावा सालाना मेंटेनेंस चार्ज और ट्रांजेक्शन फीस की भी जांच करें, कि ट्रेडिंग अकाउंट बनाम डीमैट अकाउंट? आपके डीमैट अकाउंट का सालाना खर्च कितना है। ट्रांजेक्शन फीस को लेकर ब्रोकरों के बीच बड़ा अंतर हो सकता है।

शेयर बाजार में निवेश के लिये जरूरी है डीमैट खाता, जानिये इससे जुड़ी सभी अहम जानकारियां

Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: September 21, 2021 16:13 IST

कैसे शुरू करें शेयर. - India TV Hindi

Photo:PTI

कैसे शुरू करें शेयर बाजार में निवेश

नई दिल्ली। शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले रजिस्टर्ड निवेशकों के संख्या आज 8 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है। शेयर बाजार में कारोबार को लेकर बढ़ती पारदर्शिता, बाजारों से मिलने वाले आकर्षक रिटर्न और निवेश की बेहद आसान प्रक्रिया की वजह से बाजार में निवेश करने वालों की संख्या बढ़ रही है। नये निवेशकों में बड़ी संख्या खुदरा या छोटे निवेशकों की है। हाल के ही दिनों में आईपीओ बाजार के आंकड़े भी यही संकेत दे रहे हैं कि अब खुदरा या छोटे निवेशक पहले से कही ज्यादा संख्या के साथ बाजार में जुड़ रहे हैं। अगर आपने बाजार में कदम नहीं रखा है और चाहते हैं कि आप भी निवेश का फायदा उठाये तो यहां हम आपको बता रहे हैं कि बाजार में निवेश की प्रक्रिया क्या है।

डीमैट अकाउंट के नुकसान|Demat Account Disadvantages In Hindi

नमस्कार दोस्तो:आज तक आपने सिर्फ और सिर्फ डीमैट अकाउंट के फायदों के बारे में सुना होगा.लेकिन इस से होने वाले नुकसान के बारे में बहुत कम लोग बात करते है,इसलिए इसके बारे में जानकारी भी बहुत कम लोगो को होती है.तो आज के इस आर्टिकल में हम डीमैट अकाउंट के नुकसान बारे में बात करेंगे.तो चलिए आज ट्रेडिंग अकाउंट बनाम डीमैट अकाउंट? का आर्टिकल शुरू करते है.

डीमैट अकाउंट के नुकसान

Table of Contents

डीमैट अकाउंट के नुकसान

दोस्तो ये बात सही है की डीमैट अकाउंट होने से इन्वेस्टर्स और ट्रेडर की लाइफ आसान हो चुकी है.लेकीन हर सिक्के के दो पेहलु होते है,अगर अच्छी बाते होती है,तो बुरी बाते भी होती है.तो क्या होते है डीमैट अकाउंट के नुकसान ? चलिए एक एक करके इसे समझ लेते है.

डीमैट अकाउंट के नुकसान

डीमैट अकाउंट के नुकसान

1.Annual Maintenance Charge.(AMC)

दोस्तो काफी सारे रिसर्च करके अगर आपने अपना डीमैट अकाउंट ओपन किया है,तो एक बाद याद रखे इस डीमैट अकाउंट को ओपन करने के बाद आपको इसके सालाना कुछ चार्जेस Paid करने होते है.और उन चार्जेस को Annual Maintenance Charge जिसे शॉर्ट में AMC बोला जाता है.

जीतने सालो तक आप इस डीमैट अकाउंट की सर्विस को यूज करोगे.उतने हर साल तक आपको ये चार्जेस Paid करने होते है.और ये AMC चार्जेस 300 रुपए से लेकर 800 रुपए तक हो सकते है,डिपेंड करता है आपके स्टॉक ब्रोकर के उपर.

Conclusion

दोस्तो में उम्मीद करता हु आज के हमारे आर्टिकल में दी गई जानकारी (डीमैट अकाउंट के नुकसान) आपको पसंद आई होगी.आज का आर्टिकल आपको कैसा लगा हमे नीचे कॉमेंट करके या फिर ईमेल करके जरूर बताए.

अपने उन दोस्तो के साथ जरूर इस आर्टिकल को शेयर करो,जिन्हे Finance,Taxation, Economics और Stock Market के ट्रेडिंग अकाउंट बनाम डीमैट अकाउंट? बारे में कुछ न कुछ नया सिखना अच्छा लगता है.और ऐसे ही नए नए इनफॉर्मेशन रीड करने के लिए हमारे वेबसाइट पर दोबारा जरूर विजिट करे.

दोस्तो एक जरूरी बात,अगर आपको हमारे वेबसाईट पर लिखे आर्टिकल पसंद आते है,और आप अपनी खुशी से हमारी टीम को कुछ Monetary Support करना चाहते हो,तो आप UPI ID ( [email protected] ) या फिर QR Codes के जरिए हमें सपोर्ट कर सकते हो.

रेटिंग: 4.91
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 594