ट्रेडर्स के लिए बिज़नेस लोन

ट्रेडर्स को बिज़नेस लोन की पात्रता के लिए सुरक्षा के रूप में कीमती एसेट को गिरवी रखने की कोई आवश्यकता नहीं है.

पर्सनलाइज़्ड लोन डील्स

हमसे विशेष प्री-अप्रूव्ड ऑफर प्राप्त करें और बिना किसी परेशानी के फंडिंग का लाभ उठाने के लिए लोन प्रोसेसिंग को तेज़ करें.

डिजिटल लोन टूल्स

बिना किसी प्रतिबंध के अपने लोन को मैनेज करने के लिए कस्टमर पोर्टल एक्सेस करें.

अगर आपको सामान और सेवाएं खरीदने, अपनी कार्यशील पूंजी को बढ़ाने, अपने मौजूदा बिज़नेस परिसर का नवीकरण करने या नए उपकरण में इन्वेस्ट करने के लिए फाइनेंशियल सहायता की आवश्यकता है, तो बजाज फिनसर्व व्यापारियों के लिए बिज़नेस लोन आपके लिए सही है. हमारा लोन रु. 50 लाख तक का पर्याप्त फंड प्रदान करता है. आप अपने बैंक अकाउंट में अप्रूवल के बाद 48 घंटों* के अंदर लोन का डिस्बर्स कर सकते हैं और बिना पसीने के तत्काल ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं. 48 घंटे* के भीतर अप्रूवल पाने के लिए ऑनलाइन अप्लाई करें.

Trading क्या है Trading कितने प्रकार कि होती है?

Trading क्या है? यह प्रश्न ज्यादातर स्टॉक मार्केट में नए लोगों को परेशान करता है। आज कई small retailers स्टॉक मार्केट में है जो trading और investment में अंतर नहीं समझ पाते है। अगर आपको भी ट्रेडिंग शब्द का मतलब नहीं पता है। तो आज कि लेख में हम आपको trading meaning in hindi के बारे में बारीकी से समझाएंगे। इसलिए आज का पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए इस अंत तक पढ़े। तो फिर आइए जानते हैं।

Trading क्या है?

trading-kya-hai

Trading को आसान शब्दों में व्याख्या करें तो हिंदी में इसे " व्यापार " कहा जाता है। यानी कि किसी वस्तु या सेवा का आदान प्रदान करके मुनाफा कमाना।

Stock Market Trading भी इसी तरह होता है। जैसे कि हम किसी वस्तु को खरीद और बिक्री करके मुनाफा कमाते हैं। बिल्कुल वैसे ही स्टॉक मार्केट में वस्तु की जगह कंपनियों के शेयर कि खरीद और बिक्री करके मुनाफा कमाया जाता है। ट्रेडिंग कि समय अवधि 1 साल की होती है। मतलब यह हुआ कि 1 साल के अंदर शेयर को खरीदना और बेचना है। अगर एक साल के बाद शेयर को बेचते हैं तो यह निवेश कहलाता है। यह एक तरह का ऑनलाइन पर आधारित बिजनेस होता है।

उदाहरण के तौर पर अगर हम share market में शेयर खरीद रहे हैं तो हमारे जैसे कोई अन्य व्यक्ति होगा जो उन शेयर को बेच रहा होगा। चलिए इसे अब अपने डेली लाइफ से जोड़ते हैं। मान लीजिए आपने होलसेल स्टोर से कोई सामान ₹50 खरीदा और उसे बाद में ₹60 लगा कर कस्टमर्स को बेच दिया। अगर यह आप रोजाना करते हैं तो इसे ट्रेडिंग कहा जाता है।

बिल्कुल ऐसे ही शेयर बाजार में भी होता है। आप शेयर को खरीदते हैं और 1 साल के अंदर खरीदे हुए शेयर को प्राइस बढ़ने के बाद बेच देते है। तो यह Stock Market Trading कहलाता है।

Trading को काफी रिस्की कहा जाता है क्योंकि इसमें यह कोई नहीं जानता कि कुछ समय बाद शेयर के भाव में क्या मूवमेंट आयेगा। अगर शेयर से जुड़ी न्यूज़ अच्छी आती है तो शेयर के भाव में तेजी दिखाई देगी। वहीं इसका उल्टा करे तो शेयर से जुड़ी न्यूज़ खराब आती है तो शेयर के भाव में मंदी देखने को मिल सकती है।

Stock Market Trading कितने प्रकार के होते हैं?

  1. Scalping Trading
  2. Intraday Trading
  3. Swing Trading
  4. Positional Trading

Scalping Trading क्या है?

Scalping Trading वह trade जो कुछ सेकंड या मिनट के लिए trade किया जाए। यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो केवल कुछ सेकंड या मिनट के लिए शेयर की खरीद और बिक्री करते हैं। ऐसे ट्रेडर्स को scalpers कहा जाता है। बता दू कि scalping trading को सबसे जायदा रिस्की होता है।

Intraday Trading ट्रेडर्स में क्या क्या आता है क्या है?

Intraday Trading वह trade जो 1 दिन के लिए trade किया जाए। यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो Market (9:15 am) के खुलने के बाद शेयर खरीद लेते हैं। और मार्केट बंद(3:30 pm) होने से पहले शेयर को बेच देते है। ऐसे ट्रेडर्स को Intraday ट्रेडर्स कहा जाता है। बता दू कि Intraday ट्रेडिंग scalping trading से थोड़ा कम रिस्की होता है। इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए पोस्ट को पढ़े।

Swing Trading क्या है?

Swing Trading वह trade जो कुछ दिनों के लिए शेयर को खरीदते और बेचते है। यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो एक दो हफ़्ते के लिए शेयर को खरीदने के बाद बेच देते ट्रेडर्स में क्या क्या आता है हैं। इसमें ट्रेडर को पूरे दिन चार्ट को देखना नहीं पड़ता है। यह उन लोगो ( जॉब, स्टूडेंट्स आदि) के लिए बेहतर होता है जो ट्रेडिंग में अपना पूरा दिन नहीं दे सकते हैं।

Positional Trading क्या है?

Positional Trading वह ट्रेड जो कुछ महीने के लिए होल्ड किए जाएं। यह मार्केट का long term movement को कैप्चर करने के लिए किया जाता है। ताकि एक अच्छा मुनाफा हो सके। शेयर बाजार की रोजाना के up-down से इन पर जायदा असर नहीं होता है। यह बाकी सभी trading से कम रिस्की होता है।

Trading और Investment में क्या अंतर है?

  1. Trading में शेयर को short term के लिए खरीदा जाता है। वहीं Investment में शेयर को लंबे समय के लिए खरीद लिया जाता है।
  2. Trading में टेक्निकल एनालिसिस की जानकारी होना जरूरी होता है। वहीं Investment में fundamental analysis की जानकारी प्राप्त होनी चाहिए।
  3. Trading कि अवधि 1 साल तक की होती है। वहीं निवेश कि अवधि 1 साल से ज्यादा कि होती है।
  4. Trading करने वाले लोगों को traders कहा जाता है। वहीं निवेश (Investment) करने वाले लोगों को निवेशक (Invester) कहां जाता है।
  5. Trading short term मुनाफे को कमाने के लिए किया जाता है वहीं निवेश लंबी अवधि के मुनाफे को कमाने के लिए किया जाता है।

आपने क्या जाना

जैसे कि आपने हमारी आज के लेख में trading kya hai के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की है। आज आपने ट्रेडिंग के साथ साथ ट्रेडिंग के प्रकार और निवेश से ट्रेडिंग किस तरह अलग होता है यह भी जाना है। अगर आपको भी share market में trade करना है तो सबसे पहले इसके बारे में विस्तार से जानकारी अवश्य ले। नहीं तो आपको अच्छा खासा नुकसान झेलना पड़ सकता है।

ट्रेडर्स के लिए बड़ी खबर! क्या बढ़ जाएगा इंडेक्स ट्रेडिंग के लिए टाइम? अनिल ट्रेडर्स में क्या क्या आता है सिंघवी से जानें फायदे और नुकसान

Index Trading Time: इंडेक्स ट्रेडिंग को लेकर समय बढ़ाने की बात हो रही है. जितना ज्यादा टाइम बढ़ेगा, उतना वॉल्यूम बढ़ेगा, उतनी ज्यादा कमाई होगी, ऐसे में ब्रोकर्स की यह मांग समझ आती है. समय पूरे बाजार का न बढ़े, बस इंडेक्स ट्रेडिंग ट्रेडर्स में क्या क्या आता है का ही बढ़ा दिया जाए, ऐसी भी आम राय बनी है.

Index Trading: इंडेक्स ट्रेडिंग को लेकर समय (Index Trading Timing) बढ़ाने की बात हो रही है. इसे लेकर आम राय बन रही है. सोमवार को ब्रोकर्स और एक्सचेंजेज की एक प्री-बजट मीटिंग हुई (Pre-Budget Meeting) है. बजट के लिए सुझाव पेश करने वाली इस मीटिंग में इंडेक्स ट्रेडिंग का वक्त बढ़ाने के लिए काफी जोर-शोर से मुद्दा उठा. हालांकि, ये मुद्दा बजट का नहीं है, एक्सचेंज के और स्टेकहोल्डर्स के बीच की बात है, लेकिन यह मुद्दा हावी है. जितना ज्यादा टाइम बढ़ेगा, उतना वॉल्यूम बढ़ेगा, उतनी ज्यादा कमाई होगी, ऐसे में ब्रोकर्स की यह मांग समझ आती है. समय पूरे बाजार का न बढ़े, बस इंडेक्स ट्रेडिंग का ही बढ़ा दिया जाए, ऐसी भी आम राय बनी है.

ज्यादातर लोग चाहते हैं कि जिसतरह डाओ फ्यूचर्स वगैरह ट्रेड होते हैं, उसी पैटर्न में हमारी ट्रेडिंग का पैटर्न कम से कम इंडेक्स में होना चाहिए. इसका क्या फायदा होगा कि आप ग्लोबल मार्केट के हिसाब से चल पाएंगे, कुछ बड़ा ट्रेडर्स में क्या क्या आता है ट्रिगर आता है तो आपको एंट्री और एग्जिट का टाइम मिलेगा. इंडेक्स में इससे स्पेकुलेशन कल्चर को थोड़ा बढ़ावा मिलेगा.

कितना टाइम बढ़ाने की हो रही है बात?

कुछ लोगों के बीच राय है कि पूरे बाजार की ट्रेडिंग बढ़ानी है तो शाम 5 बजे तक बढ़ा दें. लेकिन इसपर दूसरी राय है कि बाजार की ट्रेडिंग बढ़ाने का मतलब नहीं है, बस इंडेक्स का ही बढ़ाएं. इंडेक्स की ट्रेडिंग क्या 24 घंटों के लिए ओपन रहे या फिर कबतक इसे बढ़ाया जाए? इसपर Editor's Take में Zee Business के मैनेजिंग एडिटर और मार्केट गुरु अनिल सिंघवी ने कहा कि इसपर एक सेंसिबल हल निकल सकता है कि अगर इसे रात 8 बजे तक खुला रखेंगे तो ट्रेडर्स यूरोपियन बाजारों की क्लोजिंग और अमेरिकी बाजारों की ओपनिंग के साथ सिंक कर पाएंगे. उन्होंने कहा कि यूं तो अगर 24 घंटों के लिए भी खोल दें तो भी कम ही है, आपको कमाई करनी है तो आप दो घंटों में भी कर सकते हैं.

⏲️इंडेक्स ट्रेडिंग का समय बढ़ाने की क्यों ट्रेडर्स में क्या क्या आता है हो रही है चर्चा?

क्या इंडेक्स ट्रेडिंग का समय बढ़ना चाहिए?⬆️#IndexTrading का समय कितना बढ़ना चाहिए?⌛️#Trading का समय बढ़ने से क्या फायदा, क्या नुकसान?

बाजार में ट्रेडिंग का टाइम बढ़ाने का कोई मतलब नजर नहीं आता क्योंकि पहला तो इतना टाइम सिस्टम नहीं झेल पाएगा, दूसरा वॉल्यूम तो क्लोजिंग और ओपनिंग के वॉल्यूम ही देखे जाते हैं, तो इसका मतलब बहुत ज्यादा नहीं रह जाता है.

ट्रेडर्स के लिए बिज़नेस लोन

ट्रेडर्स को बिज़नेस लोन की पात्रता के लिए सुरक्षा के रूप में कीमती एसेट को गिरवी रखने की कोई आवश्यकता नहीं है.

पर्सनलाइज़्ड लोन डील्स

हमसे विशेष प्री-अप्रूव्ड ऑफर प्राप्त करें और बिना किसी परेशानी के फंडिंग का लाभ उठाने के लिए लोन प्रोसेसिंग को तेज़ करें.

डिजिटल लोन टूल्स

बिना किसी प्रतिबंध के अपने लोन को मैनेज करने के लिए कस्टमर पोर्टल एक्सेस करें.

अगर आपको सामान और सेवाएं खरीदने, अपनी कार्यशील पूंजी को बढ़ाने, अपने मौजूदा बिज़नेस परिसर का नवीकरण करने या नए उपकरण में इन्वेस्ट करने के लिए फाइनेंशियल सहायता की आवश्यकता है, तो बजाज फिनसर्व व्यापारियों के लिए बिज़नेस लोन आपके लिए सही है. हमारा लोन रु. 50 लाख तक का पर्याप्त फंड प्रदान करता है. आप अपने बैंक अकाउंट में अप्रूवल के बाद 48 घंटों* के अंदर लोन का डिस्बर्स कर सकते हैं और बिना पसीने के तत्काल ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं. 48 घंटे* के भीतर अप्रूवल पाने के लिए ऑनलाइन अप्लाई करें.

क्लियरिंग और सेटलमेंट की प्रक्रिया

वैसे तो क्लियरिंग और सेटलमेंट बहुत ही सैधान्तिक विषय है लेकिन इसके पीछे की प्रक्रिया को समझना महत्वपूर्ण है। एक ट्रेडर या निवेशक के तौर पर आपको ये चिंता करने की ज़रूरत नहीं होती कि आपका सौदा कैसे क्लियर या सेटल हो रहा है, क्योंकि एक अच्छा इंटरमीडियरी यानी मध्यस्थ ये काम कर रहा होता है और आपको ये पता भी नहीं चलता।

लेकिन अगर आप इसको नहीं समझेंगे तो आपकी जानकारी अधूरी रहेगी इसलिए हम विषय को समझने की कोशिश करेंगे कि शेयर खरीदने से लेकर आपके डीमैट अकाउंट (DEMAT account) में आने तक क्या होता है।

10.2 क्या होता है जब आप शेयर खरीदते हैं?

दिवस 1/ पहला दिन- सौदे का दिन (T Day), सोमवार

मान लीजिए आपने 23 जून 2014 (सोमवार) को रिलायंस इंडस्ट्रीज के 100 शेयर 1000 ट्रेडर्स में क्या क्या आता है रुपये के भाव पर खरीदे। आपके सौदे की कुल कीमत हुई 1 लाख रुपये (100*1000)। जिस दिन आप ये सौदा करते हैं उसे ट्रेड डे या टी डे (T Day) कहते हैं।

दिन के अंत होने तक आपका ब्रोकर एक लाख रुपये और जो भी फीस होगी, वो आपसे ट्रेडर्स में क्या क्या आता है ले लेगा। मान लीजिए आपने ये सौदा ज़ेरोधा पर किया, तो आपको निम्नलिखित फीस या चार्जेज देनी होगी:

क्रमांक कितने तरह के चार्जेज कितना चार्ज रकम
1 ब्रोकरेज 0.03% या 20 रुपये- इनमें से जो भी इंट्राडे ट्रेड के लिए कम हो 0
2 सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन चार्ज टर्नओवर का 0.1% 100/-
3 ट्रांजैक्शन चार्ज टर्नओवर का 0.00325% 3.25/-
4 GST ब्रोकरेज का 18% + ट्रांजैक्शन चार्ज 0.585/-
5 SEBI चार्ज 10 रुपये प्रति एक करोड़ के ट्रांजैक्शन पर 0.1/-
कुल 103.93/-

तो एक लाख रुपये के साथ 103.93 रुपये की फीस आपको देनी पड़ेगी, यानी कुल 100,103.93 रुपये की रकम आपके ट्रेडिंग अकाउंट से निकल जाएगी। याद रखिए कि पैसे निकल गए हैं लेकिन शेयर अभी आपके डीमैट अकाउंट (DEMAT account) में नहीं आए हैं।

उसी दिन ब्रोकर आपके लिए एक कॉन्ट्रैक्ट नोट (Contract Note) तैयार करता है और उसकी कॉपी आपको भेज देता है। ये नोट एक तरह का बिल है, जो आपके सौदौं की पूरी जानकारी देता है। यह एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है और भविष्य में काम आता है। कॉन्ट्रैक्ट नोट में आमतौर पर उस दिन हुए सभी सौदे अपने ट्रेड रेफरेंस नंबर (Trade Reference Number) के साथ दिए गए होते हैं। साथ ही आपसे ली गई सभी फीस की जानकारी उसमें होती है।

दिवस 2/दूसरा दिन- ट्रेड डे + 1 (T+ Day), मंगलवार

जिस दिन आपने सौदा किया उसका अगला दिन टी+1 डे (T+1 Day) कहलाता है। T+1 day को आप अपने शेयर बेच सकते हैं, जो आपने पिछले दिन खरीदे हैं। इस तरह के सौदे को BTST-Buy Today, Sell Tomorrow या ATST- Acquire Today, Sell Tomorrow कहते हैं। याद रखिए कि शेयर अभी भी आपके डीमैट अकाउंट में नहीं आए हैं। इसका मतलब आप ऐसे शेयर बेच रहे हैं, जो अभी तक आपके हुए नहीं है। इसमें एक रिस्क है। वैसे ट्रेडर्स में क्या क्या आता है हर BTST सौदे में रिस्क नहीं होता, लेकिन अगर आप बी ग्रुप के शेयर या ऐसे शेयर जिनकी खरीद-बिक्री बहुत कम होती है, उनका सौदा कर रहे हैं, तो आप मुसीबत में फंस भी सकते हैं। अभी इस पूरे मसले को यहीं छोड़ देते हैं।

अगर आप बाज़ार में नए हैं, तो आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप BTST से दूर रहें क्योंकि आप उसके रिस्क को पूरे तरह से नहीं जानते।

इसके अलावा आपके नजरिए से T+1 day का कोई खास महत्व नहीं है, हालांकि शेयर खरीदने के लिए दिए गए पैसे और सारी फीस सही जगह पहुंच रही होती है।

दिवस 3/तीसरा दिन- ट्रेड डे + 2 (T+2 Day), बुधवार

तीसरे दिन यानी T+2 day को दिन में करीब 11 बजे जिस आदमी ने आपको शेयर बेचे हैं उसके अकाउंट से शेयर निकल कर आपके ब्रोकर के अकाउंट में आ जाते हैं, और ब्रोकर यही शेयर शाम तक आपके अकाउंट में भेज देता है। इसी तरह जो पैसे आपके अकाउंट से निकले थे, वो उस इंसान के अकाउंट में पहुंच जाता है जिसने शेयर आपको बेचे।

अब शेयर आपके डीमैट अकाउंट में दिखेंगे। आपके पास अब रिलायंस के 100 शेयर होंगे।

इस तरह T Day को खरीदे गए शेयर आपके अकाउंट में T+2 Day को आएंगे और T+3 Day को उनका सौदा फिर से कर पाएंगे।

10.3 आप जब शेयर बेचते हैं, तब क्या होता है?

जिस दिन आप शेयर बेचते हैं, वो ट्रेड डे (Trade Day ) कहते हैं, और इसे T Day लिखा जाता है। शेयर बेचते ही उतने शेयर आपके डीमैट अकाउंट में ब्लॉक हो जाते हैं। T+2 Day के पहले ये शेयर एक्सचेंज को दे दिए जाते हैं और T+2 Day को उन शेयरों की बिक्री से मिलने वाले पैसे, फीस और चार्जेज कट कर, आपके अकाउंट में आ जाते हैं।

रेटिंग: 4.77
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 108